हमारा ललितपुर

विविध धार्मिक , प्राकृतिक एवं लालित्य छटाओं को अपने आँचल में संजोये ललितपुर जिले का सृजन 01-03-1974 को हुआ । इसके पहले 1861 से 1891 तक ललितपुर ब्रिटिश शासन काल में जनपद मुख्यालय रहा एवं 1862 से फरवरी 1974 तक यह जिला झांसी जनपद का अंग रहा ।
भौगोलिक दृष्टि से यह तीनो ओर से मध्य प्रदेश राज्य से घिरा हुआ है । बेतवा , धसान और जामनी नदिया इस जिले की अधिकाँश सीमा को निर्धारित करती है तथा यह जनपद सजनम नदी , शहजाद नदी ,जामनी एवं रोहणी नदियों को अपने में समेटे है जिनका जल ललितपुर की भूमि को अभिसिंचित कर रहा है ।
उत्तर प्रदेश के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित यह जनपद बुंदेलखंड क्षेत्र का सबसे पिछड़ा हुआ जिला है । जिले में पांच तहसील, 6 विकास खंड , और 46 न्याय पंचायते स्थित हैं । वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार जिले की जनसंख्या 1221592 है । जिसमे से पुरुषो की संख्या 641011 है और महिलाओ की जनसंख्या 581580 है ।  जनपद का कुल क्षेत्रफल 5043 वर्ग किलो मीटर अर्थात 506953 हेक्टेयर है ।

1,399 total views, 22 views today

About Amit Soni

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

दिन दहाड़े लूट में नाकाम होने पर चाकुओं से गोदकर युवक की हत्त्या     |     क्राइम ब्रांच टीम ने छापा मारकर 6 जुआरियो को किया गिरफ्तार, हजारो रुपये बरामद     |     बस के अंदर अज्ञात बैग में विस्फोटक मिलने से मचा हड़कंप , कंडक्टर बैग लेकर पहुचा कोतवाली     |     आबकारी विभाग टीम ने मध्य प्रदेश निर्मित शराब सहित 2 को किया गिरफ्तार     |     क्राइम ब्रांच टीम ने आईपीएल मैच में सट्टा खिलाते 4 सटोरियों को किया गिरफ्तार, 45 हजार बरामद     |     शार्ट सर्किट के चलते गरीब के घर में लगी आग, हजारो का सामान जलकर हुआ खाक     |     एक टूटे खम्भे के सहारे 11 KV हाइटेंसन तार की लाइन , कभी भी हो सकती है बड़ी दुर्घटना     |     कुशवाहा समाज पाली 15 वीं बार आदर्श विवाह संपन सम्मेलन में पन्द्रह जोडो़ की हुई शादिया     |     बैंको में पैसे न होने से किसान और व्यापारी परेशान     |     खेत मे थ्रेसर करवाते समय महिला की सांप के काटने से मौत     |    

error: Content is protected !!